यूपी में बिकते हैं लड़कियों के मोबाइल नंबर! 50-500 रुपए में खरीदते हैं मनचले लड़के

mobileलखनऊ: उत्तर प्रदेश में मोबाइल रिचार्ज की दुकानों पर लड़कियों और महिलाओं का मोबाइल नंबर बिकने का मामला सामने आया है। खुद यूपी पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है कि मोबाइल नंबर रिचार्ज करने वाले दुकानदार लड़कियों का मोबाइल नंबर बेच रहे हैं। यूपी के एडीजी (लॉ एंड आर्डर) दलजीत चौधरी ने कहा है कि पूरे मामले की जांच की जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि जब भी महिलाओं और लड़कियां ऐसी परेशानी का सामना करें तो वो इसकी शिकायत हेल्पलाइन नंबर 1090 नंबर पर जरूर दर्ज कराए।

यूपी पुलिस के मुताबिक मनचले लड़के लड़कियों के नंबरों को उन दुकानदारों से हासिल करते हैं जो रिचार्ज करते हैं। दरअसल जब अपने मोबाइल का रिचार्ज कराने के लिए किसी भी दुकान पर कोई लड़की आती है तो उसका नंबर दुकानदार के पास आ जाता है। इस तरह वह रिचार्ज करनेवाला दुकानदार लड़कियों के इन नंबरों को 50 रुपए से लेकर 500 रुपए में बेचता है।

रिपोर्ट के मुताबिक मुताबिक लड़कियों की सुंदरता के हिसाब से मोबाइल नंबर के दाम तय होते हैं। खूबसूरत लड़की के फोन को रिचार्ज करनेवाला दुकानदार 500 रुपए में मनचले लड़कों को बेचता है। उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि राज्य में लड़कियों के मोबाइल नंबर खुलेआम बेचे जा रहे हैं। पिछले कुछ समय से मोबाइल पर लड़कियों को मनचलों द्वारा तंग करने के मामलों में इजाफा हुआ है। महिला हेल्पलाइन नंबर पर की कई शिकायतों से इस बात का खुलासा हुआ है।

नंबर खरीदने वाले मनचले लड़के लड़कियों और महिलाओं को फोन पर तंग करते हैं और दोस्ती करने के लिए कहते हैं व अश्लील तस्वीरें, फोटो और वीडियो भेजकर परेशान करते है। रिपोर्ट के मुताबिक यूपी में महिला हेल्पलाइन नंबर पर कुल 661129 शिकायतें दर्ज कराई गईं जिसमें 582854 शिकायतें फोन करके परेशान करने की सामने आई है। यूपी में सोशल मीडिया पर लड़कियों को तंग करने के 10,066 मामले सामने आए है। रिचार्ज दुकानदारों से मनचले लड़के नकली आईडी के जरिए सिम हासिल कर लेते है और फिर लड़कियों एवं महिलाओं को फोन कर परेशान करते हैं। गौर हो कि यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 34 फीसदी बढ़ोतरी हुई है।

 

ये 7 बातें हर पत्नी अपने पति से पूछना चाहती है, लेकिन शर्म की वजह से पूछ नहीं पाती

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *