Health

ऐसी ‘सेक्स पोजीशन’ जो महिला को गर्भवती होने से बचाती हैं

ऐसी ‘सेक्स पोजीशन’ जो महिला को गर्भवती होने से बचाती हैं

Health, Sex Relation
आज दुनिया में हर कोई अपने काम में व्यस्त है और इसी कारण वक्त से पहले बच्चे पैदा करना कोई नहीं चाहता। इस भागदौड़ भरी दुनिया में हर कोई अपना करियर बनाने में लगे हुए हैं और इसी कारण महिलाएं जल्दी बच्चा नहीं चाहती हैं। उनका मानना होता है कि जब तक हम बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और उनका भविष्य ना सुधार लें तब तक बच्चे को जन्म देना बेवकूफी होगी। पर हर महिला और पुरुष को डर रहता है कि उनके ना चाहते हुए भी कहीं महिला गर्भवती ना हो जाए और ये डर वाजिब है क्योकि संभोग क्रिया में कुछ भी होना संभव है। आज हम आपको ऐसी कुछ पोजीशन बताने जा रहें हैं जो गर्भवती होने के खतरे को काफी हद तक टाल देते हैं। अगर पति-पत्नी इन पोजीशन को ध्यान में रखकर सम्बन्ध बनाएं तो महिला के गर्भवती होने का डर खत्म हो जाएगा। आइये जानते हैं ऐसी पोजीशन के बारें में। सबंध बनाते वक्त कंडोम का उपयोग करने से महिला को बिलकुल भी गर्भवती हो
इन प्राकृतिक नुस्खों को अपनाकर आप भी पा सकते हैं सफ़ेद दाढ़ी से छुटकारा

इन प्राकृतिक नुस्खों को अपनाकर आप भी पा सकते हैं सफ़ेद दाढ़ी से छुटकारा

Health
1. पुदीना via दाढ़ी को सफ़ेद से काला करने के लिए सबसे पहला प्राकृतिक नुस्खा पुदीना है। दाढ़ी को सफ़ेद करने के लिए पुदीना की चाय बहुत ही ज़्यादा फायदेमंद साबित हो सकती है। 2. आंवला via ताज़े आंवले खाने और आवंलों का जूस पीने से भी दाढ़ी को काला करने में मदद मिलती है। 3. नारियल तेल via दाढ़ी पर नारियल का शुद्ध तेल लगाने से भी आप सफ़ेद दाढ़ी से छुटकारा पा सकते हैं। 4. गुलाब जल और फिटकरी via यदि आप सफ़ेद दाढ़ी से छुटकारा पाना चाहते हैं तो इसके लिए एक और प्राकृतिक नुस्खा यह है कि आप अपनी दाढ़ी पर गुलाब जल और फिटकरी का एक पेस्ट बनाकर लगाएं। 5. एलोवेरा via एलोवेरा और मक्खन से बना हुआ पेस्ट भी दाढ़ी को वापस काला करने में काफी असरदार होता है। 6. कड़ी पत्ते का पानी via सफ़ेद
वजन घटाने के लिए खाएं किशमिश, जानें क्यों…

वजन घटाने के लिए खाएं किशमिश, जानें क्यों…

Health
ड्राई फ्रूट्स खाने वालों को किशमिश का स्वाद बहुत भाता है. किशमिश की लोकप्रियता की एक बड़ी वजह ये भी है कि यह दूसरे ड्राई फ्रूट्स की तुलना में सस्ती होती है. किशमिश खाने के बहुत से फायदे हैं जो कम ही लोगों को पता होंगे... 1. एनर्जी के लिए: किशमिश में मौजूद शुगर आसानी से पच जाती है. जिससे शरीर को तुरंत ही ताकत मिलती है. इसमें कोलेस्‍ट्रॉल नहीं होता है. इस वजह से ये दिल के मरीजों के लिए भी अच्छी है. 2. पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने में सहायक: रोजाना किशमिश खाने से हाजमा भी ठीक रहता है. ये पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने का काम करता है. कब्ज की समस्या से जूझ रहे लोगों को हर रोज पांच से छह किशमिश खाने की सलाह दी जाती है. किशमिश को रात में पानी में भिगो दीजिए और सुबह इसे खाइए. 3. हड्डियों को मजबूत बनाने में सहायक: किशमिश कैल्शियम का अच्छा स्रोत हैं जो हड्डियों को म
इस तरह से आपसी रिश्तों को प्रभावित किया जा सकता है

इस तरह से आपसी रिश्तों को प्रभावित किया जा सकता है

Health
जीवन में आपसी रिश्तों में मधुरता और अच्छा तालमेल बना रहे आपके रिश्ते हमेशा ही बेहतर बने रहें इसके लिए बता रहे हैं आपको कुछ फेंगशुई के टिप्स। जीवन में आपसी रिश्तों में मधुरता और अच्छा तालमेल बना रहे तो किसी को और क्या चाहिए? आपके रिश्ते हमेशा ही बेहतर बने रहें इसके लिए हम बता रहे हैं आपको कुछ फेंगशुई के टिप्स। फेंगशुई से आपसी रिश्तों को प्रभावित किया जा सकता है। - घर के दक्षिण-पश्चिम में क्रिस्टल ग्लास के बने झाडफ़ानूस का इस्तेमाल करना चाहिए। इसमें लाल बल्ब लगाएं। - अपना बिस्तर खिडक़ी से सटाकर कभी भी न लगाएं। इससे रिश्तों में तनाव उत्पन्न होता है और आपसी असहयोग की प्रवृत्ति को बढ़ावा मिलता है। अगर ऐसा संभव न हो तो अपने सिरहाने और खिडक़ी के बीच पर्दा जरूर डालें। नकारात्मक ऊर्जा रिश्तों पर असर नहीं कर पाएगी। - नवदंपतियों के लिए बिस्तर भी नया होना चाहिए। अगर ऐसा संभव न हो सके तो कोशिश
बदलते मौसम में ऐसे करें सौंदर्य की देखभाल

बदलते मौसम में ऐसे करें सौंदर्य की देखभाल

Health
मौसम के प्रभाव से त्वचा शुष्क होकर फटने लगती है। ऐसे में आप अपनी त्वचा को थोड़ी सी सूझबूझ से मौसम की मार से बचाकर रख सकती हैं... - इस मौसम में साबुन का कम इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि साबुन त्वचा की शुष्कता को बढ़ा देता है। - त्वचा पर कोको बटर, मिल्क क्रीम, कोल्ड क्रीम, माइश्चराइजर आदि की मालिश करें। - आजकल के मौसम में चेहरे की झाईयां बढ़ जाती हैं। इसलिए चेहरे को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। चेहरे की झाईयां दूर करने के लिए आधा नींबू, आधा चम्मच हल्दी और दो चम्मच बेसन लें। अब इन चीजों को अच्छी तरह से मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट का मास्क चेहरे पर तीन या चार बार लगाएं। झाईयां समाप्त हो जाएंगी और चेहरा भी निखर जाएगा। - शरीर पर जैतून, नारियल, सरसों आदि तेलों की मालिश करने से त्वचा मुलायम बनी रहती है। - बाहर से आने के बाद हाथ-पैर, चेहरा धोने के बाद हैंड एंड बाडी लोशन लगा
लिंग का ढीलापन और शीघ्रपतन में मिश्री है रामबाण उपाय

लिंग का ढीलापन और शीघ्रपतन में मिश्री है रामबाण उपाय

Health, Sex Relation
आजकल हर कोई किसी न किसी समस्या से परेशान रहता है l पुरूषों की ऐसी अनेक गुप्त बीमारियां हैं । जो उन्‍हें बुरी तरह प्रभावित करती हैं। पुरूषों की सेक्‍स संबंधी समस्‍याएं स्‍वास्‍थ को खराब तो करती ही हैं, साथ ही उनके दांपत्‍य जीवन पर भी बुरा प्रभाव डालती हैं। पुरुष अपनी सेक्स समस्याओं के चलते बाज़ार में मिल रही यौन समस्या की दवाईयों को काफी मात्रा में प्रयोग करने लगते हैं l लेकिन इन लोगों को ये नहीं पता होता की ये दवाईयाँ शरीर पर कितना गलत प्रभाव डालती है l इन तमाम समस्याओं के चलते पुरुष काफ़ी तनाव महसूस करने लगते हैं l लेकिन घबराने की कोई बात नहीं हम आपको बताएंगे कुछ घरेलू उपाय जिससे आप इस समस्या से निजात पा सकेंगे l  source जो नुस्खे हम आपको बता रहे हैं वो घरेलू नुस्खें सरल, सस्ते, नुक्सान रहित तथा लाभदायक है।   घरेलू उपाय :- बबूल की कच्ची पत्तियां, कच्ची फलियां और गोंद को बराबर
चाहे शरीर के किसी भी अंग में पथरी क्यों ना हो, ये 15 बुँदे उसको जड़ से हमेशा के लिए ख़त्म कर ऑपरेशन से निजात दिलाएगी, शेयर अवश्य करे

चाहे शरीर के किसी भी अंग में पथरी क्यों ना हो, ये 15 बुँदे उसको जड़ से हमेशा के लिए ख़त्म कर ऑपरेशन से निजात दिलाएगी, शेयर अवश्य करे

Featured, Health
  दोस्तों पथरी आजकल की आम समस्या हो गयी हैं जिसका इलाज भी हमारे घर आंगन में ही हैं लेकिन हमारी मानसिकता हो गयी हैं डोक्टर के पास भागने की । ये पोधा हैं पथर चट्टा का जिसे पाखाण भेद भी कहते हैं जिसका अर्थ हैं पथर को तोड़ने वाला । इसके 3 पतो को सुबह व् शाम को खाली पेट 20 से 25 दिन सेवन करने से पत्थरी टूट कर निकल जाती हैं । आयुर्वेद अपनाये स्वास्थ्य बचाए। अगर आपको यह पौधा ना मिले तो आप होमियोपैथी उपचार करे । होमियोपेथी इलाज राजीव दीक्षित जी द्वारा : अब होमियोपेथी मे एक दवा है ! वो आपको किसी भी होमियोपेथी के दुकान पर मिलेगी उसका नाम हे BERBERIS VULGARIS ये दवा के आगे लिखना है MOTHER TINCHER ! ये उसकी पोटेंसी है। वो दुकान वाला समझ जायेगा। यह दवा होमियोपेथी की दुकान से ले आइये। ध्यान दे : ये BERBERIS VULGARIS दवा भी पथरचट नाम के पोधे से बनी है बस फर्क इतना है ये dilutions f
क्या आप जानते हैं ग्रीन टी पीने का सही तरीका और समय

क्या आप जानते हैं ग्रीन टी पीने का सही तरीका और समय

Health
अगर आप फिटनेस के बारे में सोचते हैं और फिट रहने की कोशिश करते हैं तो हो न हो, ग्रीन टी जरूर पीते होंगे. बीते कुछ सालों में ग्रीन टी की लोकप्रियता काफी बढ़ी है. वजन कम करने वालों का तो ये पसंदीदा पेय है. इसके अलावा स्क‍िन की क्वालिटी सुधारने, मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने और लंबे समय तक एक्ट‍िव बने रहने के लिए भी ग्रीन टी पीना फायदेमंद है. ग्रीन टी फायदेमंद है लेकिन इसका मतलब ये बिल्कुल भी नहीं है कि आप एक के बाद एक कई कप ग्रीन टी पी जाएं. आमतौर पर लोग ऐसी गलती करते हैं. इसके साथ ही ग्रीन टी पीने का एक सही समय भी तय होना चाहिए, वरना ये नुकसानदेह भी हो सकता है. ग्रीन टी में कैफीन और टेनिन्स पाए जाते हैं, जो गैस्ट्रिक जूस को डाइल्यूट करके पेट को नुकसान पहुंचा सकते हैं. इसके बहुत अधि‍क इस्तेमाल से चक्कर आने, उल्टी आने और गैस होने जैसी प्रॉब्लम हो सकती हैं. ग्रीन टी के फायदे पाने के लिए जरूरी ह
पपीते के पत्ते का रस, तुलसी की पत्ती, लहसुन…चिकनगुनिया मेंं कितने कारगर हैं ये उपाय?

पपीते के पत्ते का रस, तुलसी की पत्ती, लहसुन…चिकनगुनिया मेंं कितने कारगर हैं ये उपाय?

Health
आमतौर पर हमारे यहां हर बीमारी के लिए घरेलू उपाय हैं. ज्यादातर लोग डॉक्टर के पास जाने से पहले घरेलू उपाय आजमाते हैं. घरेलू उपायों की सबसे बड़ी खूबी ये होती है कि इनका कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है लेकिन कोई भी उपाय करने से पहले ये जान लेना जरूरी है कि वो किस तरह काम करता है. बात अगर चिकनगुनिया की करें तो इस बीमारी में पपीते के पत्ते, तुलसी की पत्ती, अजवायन, लहसुन खाने की सलाह दी जाती है. लेकिन क्या आप जानते हैं इन चीजों को खाने की सलाह क्यों दी जाती है? 1. क्यों दी जाती है पपीते के पत्ते का रस पीने की सलाह? कारण: डेंगू, चिकनगुनिया में पपीते के पत्ती को उबालकर पीने की सलाह दी जाती है. कुछ लोग इसका रस भी पीने की सलाह देते हैं. ये वाकई एक कारगर उपाय है. दरअसल, पपीते के पत्तों में chymopapin और papain नाम के दो ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं, जो प्लेटलेट काउंट्स बढ़ाने में मदद करते हैं. डेंगू और चिकन
0
0
0
0
0