Religion

इस्लाम की एक और प्रथा जानिए इस्लाम में खतना क्यू किया जाता है क्या ये अल्लाह ने कहा था

इस्लाम की एक और प्रथा जानिए इस्लाम में खतना क्यू किया जाता है क्या ये अल्लाह ने कहा था

Featured, Religion
हाल ही में अमरीका के शिकागो स्थित बालरोग पर शोध करने वाली संस्था ‘द अमरीकन एकेडेमी ऑफ पीडीएट्रिक्स’ ने अपने ताजा बयान में कहा है कि नवजात बच्चों में किए जाने वाले खतना, जिसे इस्लाम में सुन्नत भी कहा जाता है, यह रिवाज़ सेहत के लिहाज से फायदेमंद है। 5. सेहत के लिए फायदेमंद? जी हां, आपको सुनकर हैरानी हो रही होगी लेकिन शोधकर्ताओं ने सच में यही परिणाम दिया है। और ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले भी समय-समय पर दुनियाभर में कई ऐसे हुए शोध हुए जिन्होंने यह साबित किया है कि खतना इंसान की कई बड़ी बीमारियों से हिफाजत करता है।   6. दर्दनाक प्रक्रिया लेकिन इतनी दर्दनाक प्रक्रिया फायदेमंद कैसे हो सकती है? खतना या सुन्नत एक शारीरिक शल्यक्रिया है जिसमें आमतौर पर मुसलमान नवजात बच्चों के लिंग के ऊपर की चमड़ी काटकर अलग की जाती है। यह रिवाज़ भारत समेत अन्य कई अरब एवं यूर
मुताह निकाह: इस्लामी कानून में है वैश्यावृत्ति का मान्यता प्राप्त जरूर पढ़ें

मुताह निकाह: इस्लामी कानून में है वैश्यावृत्ति का मान्यता प्राप्त जरूर पढ़ें

Featured, Religion
इस्लाम की एक और प्रथा जानिए इस्लाम में खतना क्यू किया जाता है क्या ये अल्लाह ने कहा था दिल्ली डबल मर्डर केसः गर्लफ्रेंड के साथ रची थी पत्नी और उसकी सहेली की हत्या की साजिश, बॉडी के टुकड़े कर फेंके  
इस्लाम की हकीकत इस्लाम के नाम पर हलाला और वैश्यावृत्ति में कोई फर्क नहीं : मीना कुमारी ( पूर्व अभिनेत्री)

इस्लाम की हकीकत इस्लाम के नाम पर हलाला और वैश्यावृत्ति में कोई फर्क नहीं : मीना कुमारी ( पूर्व अभिनेत्री)

Featured, Religion
मीना कुमारी, इस नाम को बॉलीवुड में कौन नहीं जानता, कदाचित आपने भी मीना कुमारी का नाम सुना होगा, मीना कुमारी उनका केवल स्क्रीन नाम था, इनका असल नाम महजबीन बानो था मीना कुमारी का निकाह कमाल अमरोही से हुआ था, कमाल अमरोही ने गुस्से में आकर मीना कुमारी को ट्रिपल तलाक दे दिया था “तलाक तलाक तलाक” बोलकर वो भी गुस्से में बाद में कमाल अमरोही का गुस्सा शांत हुआ तो उन्होंने फिर से मीना कुमारी कुमारी से निकाह करने का फैसला किया, लेकिन इसी बीच एक पेंच फंस गया था इस्लामी मौलवियों ने कमाल अमरोही को बताया की, अब फिर से मीना कुमारी से निकाह करने के लिए पहले उनका हलाला करवाना होगा (यानि किसी और पुरुष की एक रात की बीवी बनना होगा और उस पुरुष से 1 बार कम से कम सम्भोग करना होगा) तब कमाल अमरोही ने फैसला किया की मीना कुमारी का हलाला अपने मित्र अमान उल्ला खान से करवाएंगे आपको बता दें अमान उल्ला
जिहाद अल निकाह सगी बेटी, सगी बहन से अल्लाह के नाम पर किया जा रहा है निकाह ए सम्भोग

जिहाद अल निकाह सगी बेटी, सगी बहन से अल्लाह के नाम पर किया जा रहा है निकाह ए सम्भोग


Warning: printf(): Too few arguments in /home/nowtouchme/public_html/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
p>और अब इसी के बाद सीरिया में हैवानियत का क्या हाल हो चूका है ये बता रही है 19 साल की ये लड़की जिसका नाम रवां मिलाद अल दाह है रवां मिलाद अपनी आपबीती बता रही है जो की हम हिंदी में नीचे लिख रहे है विडियो में अंग्रेजी सबटाइटल भी है लड़की ने बताया * मेरे अब्बू का नाम मिलाद मौसा अल दाह है, अम्मी अब्बू भाइयों को मिलाकर हमारे घर में 5 लोग थे * सीरिया में जिहाद से पहले मेरे अब्बू खेतीबाड़ी कर रहे थे वो पौधे लगाने का काम कर रहे थे, फिर जिहाद शुरू हो गया और अब्बू भी उसमे शामिल हो गए, हम लोग उनसे बहस करते थे की वो कत्लेआम न करे पर वो हमेशा पिटाई करते थे * जिहादियों और सीरिया की आर्मी में जिहाद चल रहा था, मेरे अब्बू हमेशा घर में 3-4 लोगो को लाने लगे थे उनके पास बंदूके भी होती थी, मुझे नहीं पता था की ये लोग कौन है * फिर एक दिन मुझे अलग कमरे में बन्द कर दिया गया, 15 दिनों तक मेरे कमरे में कोई नहीं
शिवलिंग शिव का निराकर रूप है इसलिए शिवलिंग की पूजा का महत्व है

शिवलिंग शिव का निराकर रूप है इसलिए शिवलिंग की पूजा का महत्व है

Religion
ऋग्वेद के नासदीय सूक्त में 10वें मंडल के 129वें सूक्त में उल्लेखित है, 'शिवलिंग का संबंध ब्रह्मांड की उत्पत्ति के साथ है।' यह सूक्त ब्रह्माण्ड के निर्माण के बारे में काफी सटीक तथ्य बताता है। दरअसल, शिलविंग भगवान शिव का आदि-अनादी स्वरुप है। शून्य, आकाश, अनन्त, ब्रह्माण्ड और निराकार परमपुरुष का प्रतीक होने से इसे शिवलिंग' कहा गया है। स्कन्द पुराण में उल्लेखित है, 'आकाश स्वयं लिंग है।' धरती आधार है और यह सब कुछ अनन्त शून्य से उत्पन्न हुए हैं। और इनमें लय होने के कारण इसे लिंग कहा गया है। हिंदू पुराणों में शिवलिंग को कई नामों से संबोधित किया गया है। जोकि क्रमशः प्रकाश स्तंभ/लिंग, अग्नि स्तंभ/लिंग, उर्जा स्तंभ/लिंग, और ब्रह्माण्डीय स्तंभ/लिंग। विद्येश्वर संहिता में वर्णित है कि शिव का जन्म नहीं हुआ है, इसलिए शिव अनंत समय तक मौजूद रहेंगे। शिव निराकार हैं और शिवलिंग शिव का निराकर
इस दिवाली अमीर बनने के लिए जल्द हटा दें घर की ये चीजें

इस दिवाली अमीर बनने के लिए जल्द हटा दें घर की ये चीजें

Religion
हर कोई अमीर बनने का ख्वाब देखता है, दरिद्रता का जीवन जीना कोई नहीं चाहता है। एक दौर वो भी था जब पैसा केवल इंसान की जरूरते पूरी करता था लेकिन आजकल यह ना सिर्फ आपकी जरूरतों को पूरा करता है बल्कि यह आपका स्टेटस भी निर्धारित करता है। हो सकता है आपके घर में कुछ ऐसा हो जो आपके धन के आगमन से ज्यादा उसके व्यय का जिम्मेदार हैं। आपको शायद यह बात पता ना हो लेकिन वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कुछ ऐसी अनचाही चीजें आ जाती हैं जिनकी वजह से परिवार को निर्धनता का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं क्या हैं वो कबूतर का घोंसला वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कबूतर का घोंसला अस्थिरता के हालात पैदा करता है और साथ ही निर्धनता को भी आमंत्रण देता है। अगर आपके घर में ऐसा कुछ है तो जल्द से जल्द इसे हटाने का प्रयास करें। मधुमक्खी का छत्ता शहद की मक्खी का डंक तो वैसे ही खतरनाक होता है, लेकिन घर
आर्थिक तंगी दूर करने के लिए हनुमानजी के सामने करें यह उपाय

आर्थिक तंगी दूर करने के लिए हनुमानजी के सामने करें यह उपाय

Religion
शास्त्रों के अनुसार हनुमानजी शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवी-देवताओं में से एक हैं। गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस के अनुसार माता सीता द्वारा पवनपुत्र हनुमानजी को अमरता का वरदान दिया गया है। इसी वरदान के प्रभाव से इन्हें भी अष्टचिरंजीवी में शामिल किया जाता है। कलयुग में हनुमानजी भक्तों की सभी मनोकामनाएं तुरंत ही पूर्ण करते हैं। बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए कई प्रकार के उपाय बताए गए हैं। इन्हीं उपायों में से एक उपाय यहां बताया जा रहा है। इस उपाय को विधिवत किया जाए तो बहुत जल्दी सकारात्मक फल प्राप्त होते हैं। यह उपाय पीपल के पत्तों से किया जाता है। श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी की कृपा प्राप्त होते ही भक्तों के सभी दुख दूर हो जाते हैं। पैसों से जुड़ी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं। कोई रोग हो तो वह भी नष्ट हो जाता है। इसके साथ ही यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में कोई ग्र
धर्म के नाम पर बांटने वालों को जवाब, मु‍स्लिम समुदाय ने की दुर्गा पूजा

धर्म के नाम पर बांटने वालों को जवाब, मु‍स्लिम समुदाय ने की दुर्गा पूजा

Religion
गोरखपुर (9 अक्टूबर):नवरात्री का त्योहार चल रहा है और देश भर में दुर्गा पंडालों में मां दुर्गा की पूजा अर्चना की जा रही है। लेकिन गोरखपुर से ऐसी तस्वीरे सामने आई हैं जो धर्म के नाम पर राजनीति करने वाले हमारे नेताओं के मुंह पर जोरदार तमांचा रसीद करती हैं। तस्वीरे गोरखपुर से हैं, जहां पर मुस्लिम समुदाय के लोग दुर्गा पंडाल में मां भवानी की पूजा अर्चना करने में लगे हैं। बताया जा रहा है कि यह लोग बीजेपी मॉइनारिटी मोर्चा के सदस्य हैं। इसी के साथ इन लोगों ने यहां से दरगाह के लिए चादर भी भेंट की।   source http://hindi.news24online.com/
मोहम्मद और जीसस भी थे गोरक्षा के हिमायती

मोहम्मद और जीसस भी थे गोरक्षा के हिमायती

Religion
और जीसस क्राइस्ट का सहारा लिया है। बोर्ड ने गोवंदन कार्य सरिता में गोरक्षा पर महान हस्तियों के उद्धरण प्रकाशित किए हैं जिसमें विभिन्न धर्मगुरुओं के उद्धरण भी शामिल हैं। इसमें जीसस क्राइस्ट को उद्धरित करते हुए लिखा है, ‘गाय को मारने से उतना ही पाप होता है जितना किसी इंसान को मारने से।’ इसी तरह पैगम्बर हजरत मोहम्मद को कोट करते हुए कहा गया है, ‘गाय का सम्मान करो क्योंकि यह सभी जानवरों में सर्वोत्तम है। गाय दूध देती है और इसके दूध से घी जैसे उत्पाद बनते हैं। बीफ का सेवन कई बीमारियों का कारण हो सकता है।’ जमैत-ए-उल्मा-ए-हिंद, गुजरात के जनरल सेक्रटरी मुफ्ती अब्दुल खय्याम ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मोहम्मद ने अपने जीवन भर में गाय देखी भी नहीं होगी। अरब में जहां मोहम्मद रहते थे, गाय कहां थी? वह कभी अरब से बाहर ही नहीं गए। यह संभव ही नहीं है कि उन्होंने गाय को देखा हो और इसकी उ
DB SPECIAL: पैदल जाने वालों के लिए वैष्णोदेवी का 7 किमी का नया रास्ता, खड़ी चढ़ाई कम होगी

DB SPECIAL: पैदल जाने वालों के लिए वैष्णोदेवी का 7 किमी का नया रास्ता, खड़ी चढ़ाई कम होगी


Warning: printf(): Too few arguments in /home/nowtouchme/public_html/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
कटरा. जम्मू से कटरा का रास्ता पहले दो घंटे का होता था। तीन टनल की बदौलत अब यह बमुश्किल 40 मिनट का रह गया है। अभी लोग कम आ रहे हैं। पर महज डेढ़ महीने बाद नवरात्र शुरू हो जाएंगे। इसलिए वैष्णोदेवी तक जाने वाले नए रास्ते पर काम जोर-शोर से चल रहा है। 7 किमी लंबा ये रास्ता बालिनी ब्रिज से अर्द्धकुंवारी को जोड़ेगा। चेकिंग प्वाइंट और शेड का काम होते ही इसे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा। हालांकि, पालकी और घोड़े वाले इस नए रूट का विरोध कर रहे हैं। कितना छोटा होगा नया रास्ता... - वैष्णोदेवी श्राइन बोर्ड के सीईओ अजीत कुमार साहू ने बताया कि श्रद्धालुओं में 80% पैदल यात्रा करते हैं। बाकी 6% हेलिकॉप्टर से और 14% घोड़े-पालकी से। नया रास्ता सिर्फ पैदल यात्रियों के लिए होगा। यहां घोड़े-पालकी बैन रहेंगे। - पुराने रास्ते की तुलना में नया रास्ता सिर्फ 500 मीटर छोटा होगा, लेकिन सुविधाएं कई हैं। रूट इतन
0
0
0
0
0